आपके शरीर से जुड़े 5 गुप्त रहस्य जिनसे आप हैं अनजान

0
260
शरीर
human

शरीर एक मानव जीव की संपूर्ण संरचना है। मानव शरीर लगभग 50 ट्रिलियन कोशिकाओं से मिल कर बना होता है। इन कोशिकाओं के जीववैज्ञानिक संगठन से अंतत: पूरे शरीर की रचना होती है। मानव शरीर के बारे में कई भ्रांतियां हैं, फिर बात चाहे वज़न का हो या सेक्स की।

शरीर से जुड़े रहस्य

  1. लोग अमूमन मानते हैं कि मोटे लोगों में मेटाबॉलिज़्म की दर कम होती है। लेकिन ऐसा होता नहीं है। मोटे लोगों के शारीरिक अंग बड़े होते हैं। वहीं पतले लोगों की तुलना में वे ज्यादा ऊर्जा खर्च करते हैं। ऐसे में मोटे लोगों के मेटाबॉलिज़्म की दर ज़्यादा होती है
  2. अगर आपका पेट काफ़ी वज़नी हो तो आपके शरीर को सेब जैसा कहा जाता है। जबकि अगर आपके हिप और थाई वज़नी हों तो उसे नाशपती के आकार का कहा जाता था। हाल में कैलिफ़ोर्निया यूनिवर्सिटी के अध्ययन में देखा गया कि अगर आपका वज़न ज़्यादा है तो वो ख़तरनाक है
  3. मैनचेस्टर में 3डी बॉडी स्कैनर से 240 ब्रिटिश महिलाओं की कद-काठी के माप में देखा गया कि 63 फ़ीसदी महिलाओं की कमर, कंधे और छाती का माप एक जैसा था. इसे आप आयाताकार कह सकते हैं। केवल 13 फ़ीसदी महिलाओं की बॉडी परफैक्ट ऑवरग्लास जैसी थी।
  4. पुरुषों का स्तन भी कई बार बढ़ जाता है. माना जाता है कि ज्यादा बीयर पीने से ऐसा होता है. लेकिन ये स्तन में कोशिकाओं के बढ़ने से होता है
  5. तुर्की के अनुसंधानकर्ताओं ने 200 पुरुषों में सर्वे करने के बाद पाया है कि जिनका वज़न अनुपात ज़्यादा होता है, यानि बीएमआई (बॉडी माल इंडेक्स) ज़्यादा होता है, वह बिस्तर पर ज़्यादा देर तक संसर्ग करने की क्षमता रखते हैं। ऐसे लोगों का औसतन संसर्ग का समय 7.3 मिनट होता है जबकि पतले लोग 2 मिनट में स्खलित हो जाते हैं।

मानव शरीर से जुड़ी कुछ खास बातें

  1. इस बात को झूठलाया नहीं जा सकता कि भले ही इस संसार में इंसान सबसे मजबूत और ताकतवर रचना हो लेकिन वास्तव में इंसान ब्रह्मांड का एक छोटा सा हिस्सा मात्र ही है।

2. वो शक्ति जो पूरे संसार को अपने इशारे पर नचाती है, उसी ताकत का मनुष्य के शरीर पर हावी है। साफ शब्दों में        कहें तो इसका मतलब ये है कि शरीर का हर हिस्सा, हर भाग इसी ताकत द्वारा किया जाता है।

3. सभी इस बात को जानते हैं कि मनुष्य का शरीर ऊर्जा का बहुत बड़ा केन्द्र हैं। जाहिर है कि इंसान के शरीर में मौजूद      ये ऊर्जा बहुत सी चीजों को प्रभावित करती है।

4. आप ये जानकर हैरान हो जाएंगे कि भारत में मंदिरों की संरचना एक मनुष्य के शरीर की बनावट या संरचना से काफी      हद तक मिलता जुलता है।

5. हिन्दू सभ्यताओं के मुताबिक मनुष्य का शरीर हो या फिर मंदिरों की संरचना भगवान शिव के द्वारा ही तय की जाती है।    वहीं आपको बता दें कि इन्द्र देव का पूर्वी दिशा पर नियंत्रण है। इसका तात्पर्य लंबी आयु से है।

6. अग्नी देव दक्षिण-पूर्वी दिशा को संचालित करते हैं। ये खुशियां और ऊर्जा को तय करती है। वहीं दक्षिण दिशा को मृत्यु      के देवता यमराज संचालित करते हैं। ये सिर्फ और सिर्फ शोक को दर्शाती है।

यह भी पढ़ें: सिक्कों वाला पेड़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here