दिल्ली के इंडियन हैबिटेट सेंटर में तीसरा अंतर्राष्ट्रीय समावेशी सौर ऊर्जा के लिए कार्यशाला का हुआ आयोजन

0
179
indian habitat delhi
दिल्ली के इंडियन हैबिटेट सेंटर में 30 अगस्त को तीसरा अंतर्राष्ट्रीय समावेशी सौर ऊर्जा के लिए कार्यशाला का आयोजन किया गया. इसका उद्देश्य समाज में सोलर एनर्जी के बारे में लोगों को जागरुक करना और उन व्यापारिक घरानों को सौर ऊर्जा की तरफ आकर्षित करना जो सौर ऊर्जा को एक व्यापारिक दृष्टि से देखते हैं.

प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षण करना होगा: संदीप मारवाह

इस कार्यक्रम में समाज के कई क्षेत्रों से जुड़े हुए प्रतिष्ठित लोगों ने भाग लिया जिसमे मुख्य रूप से डॉक्टर संदीप मारवाह (प्रेसिडेंट आईसीएमईआई) श्री एस पी त्रिपाठी (सेवानिवृत्त प्रशासनिक अधिकारी) डॉक्टर के डी गुप्ता, उपेंद्र त्रिपाठी, सुभाष अग्रवाल और डॉक्टर वीरेंद्र गोस्वामी सहित कई गणमान्य व्यक्तियों की गरिमामय उपस्थिति रही. कार्यक्रम में मारवाड़ स्टूडियो के संस्थापक संदीप मारवाह ने कहा कि वर्तमान समय में सरकार और समाज दोनों को सौर ऊर्जा की तरफ व्यापक रूप से कार्य करने की जरूरत है ताकि हम अपने प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षण कर सकें.

भारत में चिंता का विषय है सौर उर्जा

वर्तमान परिदृश्य को देखते हुए उन्होंने कहा कि यह बड़ी चिंता का विषय है कि भारत की कुल ऊर्जा खपत का एक परसेंट से भी कम सौर ऊर्जा का उत्पादन कर पा रहा है और यह बहुत ही चिंता का विषय है. प्राकृतिक संसाधनों पेट्रोलियम, कोयला या अन्य जो भी ऊर्जा के स्रोत है सारे निश्चित मात्रा में है, जिनका उपयोग हम लंबे समय तक नहीं कर सकते लेकिन सौर ऊर्जा का उपयोग हम अनवरत कर सकते है और प्राकृतिक को प्रदूषण मुक्त बनाए रख सकते है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here