SSC पेपर लीक: SSC उम्मीदवारों ने किया जोरदार प्रदर्शन, 207 हिरासत में

0
324
ssc
ssc paper leak

SSC पेपर लीक मामला अब तूल पकड़ रहा है। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भारत के युवाओं पर बेहद गुमान है, ऐसा उनके शब्दों से साफ जाहिर होता है। पीएम मोदी अक्सर देश में या देश के बाहर भी ये कहते पाए गए हैं कि भारत के नौजवान बेहद काबिल हैं और उनमें कुछ भी कर दिखाने की क्षमता भी है। लेकिन बीते कुछ दिनों से राजधानी दिल्ली की सड़कों पर जो कुछ भी हो रहा है वो बतलाता है कि मोदी सरकार युवाओं की समस्याओं को लेकर बिल्कुल भी सजग नहीं हैं।

ssc पेपर लीक मामला

दरअसल देश की राजधानी दिल्ली में छात्रों के प्रदर्शनों का दौर जारी है। शनिवार को एक ओर छात्र CBSE मुख्यालय के सामने पेपर लीक होने के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करते दिखे तो वहीं दूसरी ओर SSC की परीक्षाओं में हुई धांधली के ख़िलाफ़ छात्रों ने संसद मार्ग में प्रदर्शन किया।

ये है पूरा मामला

  • SSC के उम्मीदवारों ने SSC का पर्चा कथित रूप से लीक होने की CBI से जांच करने की मांग को लेकर लुटियंस दिल्ली में प्रदर्शन किया। इस दौरान उनकी पुलिस से झड़प भी हुई।
  • प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने परीक्षा पत्र के कथित तौर पर लीक होने से रोकने में नाकाम रहने का सरकार पर आरोप लगाया।
  • प्रदर्शनकारियों ने देश के शिक्षित युवाओं के लिए पर्याप्त नौकरियों की भी मांग की। प्रदर्शनकारियों ने संबंधित अधिकारियों को अपनी मांगों को लेकर लिखित आश्वासन के लिए दोपहर तीन बजे तक का समय देते हुआ कहा था कि वे कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) कार्यालय की तरफ मार्च करेंगे।
  • इलाके में बड़ी संख्या में पुलिस एवं सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए थे और प्रदर्शनकारियों को डीओपीटी कार्यालय की तरफ बढ़ने पर हिरासत में लिया गया। हालांकि बाद में उन्हें छोड़ दिया गया।
  • परीक्षार्थियों का आरोप है कि आयोग द्वारा आयोजित परीक्षाओं के पेपर लीक हुए हैं। और कई तरह की दूसरी धांधलियां भी हुई हैं।

इस मामले में परीक्षार्थी CBI जांच की मांग कर रहे थे। जिसके बाद देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने इसकी जांच CBI से कराने के आदेश दिए। न्यूज एजेंसी ANI से राजनाथ सिंह ने बात की। उन्होंने कहा कि ‘प्रदर्शनकारियों की मांग को स्वीकार करते हैं। मामले की CBI जांच के आदेश दिए गए हैं’।

दिल्ली पुलिस की हिरासत में 207 लोग

एसएससी परीक्षार्थियों की एक समिति ने बयान में कहा कि सीपी की ओर मार्च कर रहे समूह पर दिल्ली पुलिस ने लाठीचार्ज किया और उनसे हाथापाई भी की। बहरहाल, पुलिस ने बल का इस्तेमाल किए जाने की बात को इनकार किया और कहा कि प्रदर्शनकारी के साथ ‘संयम’ और ‘पेशेवर’ तरीके से निपटा गया। गौरतलब है कि प्रदर्शन में करीब 5 हजार छात्र मौजूद थे।

किसी ने लिखा ‘‘Protest करना जरूरी है। SSC को जगाना जरूरी है।’’ तो किसी ने ‘‘युवा पीढ़ी की हुंकार, बंद करो भ्रष्टाचार’’। ऐसे कई नारे थे जो लुटियंस दिल्ली में लगाए जा रहे थे। अब सवाल उठता है कि जिन छात्रों को पढ़ लिख कर देश के विकास के काम आना चाहिए था वो सड़ंको पर प्रदर्शन करने के लिए मजबूर हैं।

यह भी पढ़ें: सरकार इतना बड़ा सच क्यों छुपा रही है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here